प्रिंसेस एडवाइजरी और टिप्स प्रोवाइडर में आपका स्वागत है

अपने ड्रीम लाभ को बढ़ावा देना

सलाहकार कंपनियों की प्रतिस्पर्धी दुनिया में काम करना हम उपरोक्त शब्दों का पालन कर रहे हैं और हमारे ग्राहकों को स्टॉक और कमोडिटी बाजार के क्षेत्र में सर्वोत्तम संभव सेवाएं प्रदान करते हैं।

Get A Free Trial Form

शेयर बाजार

शेयर बाजार एक ऐसी जगह है शेयर्स की खरीदी और बिक्री होती है अर्थात यदि किसी कंपनी को अपनी कंपनी के लिए पूंजी की आवश्यकता होती है तो वह अपनी कंपनी के शेयर स्टॉक मार्केट में नीलाम करते है। जो निवेशक इसे खरीदता है उसे शेयर धारक कहते है। अगर कंपनी को फ़ायदा होता है तो शेयर धारक को भी फ़ायदा होता है और यदि कंपनी को नुक्सान होता है तो शेयर धारक को भी नुकसान उठाना पड़ता है। इसमें थोड़ा जोखिम होता है। अगर अच्छी रणनीति के साथ ट्रेडिंग करे तो जोखिम कम होते है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज:-

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारत और एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारतीय शेयर बाज़ार के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों में से एक है। भारत को अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय बाजार में अपना श्रेष्ठ स्थान दिलाने में बीएसई की अहम भूमिका है। इसका सूचकांक विश्वविख्यात है। बीएसई की सिस्टम और प्रक्रिया ऐसी है कि बाजार की पारदर्शिता और सुरक्षा बनी रहे। एक्सचेंज में `ट्रेडिंग राइट' और `ओनरशिप राइट' एक दूसरे से अलग है। ऐसी परिस्थिती में निवेशकों के हितों पर विशेष सावधानी बरती जाती है। एक्सचेंज इक्विटी, डेब्ट तथा प्युचर्स और ऑप्शन के व्यापार के लिए ढांचा एवं पारदर्शक ट्रेडिंग सिस्टम सुनिश्चित करता है।


नेशनल स्टॉक एक्सचेंज:-

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत का सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है। कारोबार के लिहाज से यह विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। NSE अपनी सेवाओ से निरंतर उन अपेक्षाओ को पूरा कर रहा है, जिसके लिए इसकी स्थापना की गई, EQUTIY VOLUME TRADING के मामले में दुनिया का चौथा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। इसके साथ ही सन 2000 में एनएसई ने इंडेक्स फ्यूचर की शुरुआत की जो अपने आप में अनूठा था आज हमारे देश में दोनों ही स्टॉक एक्सचेंज BSE और NSE लगभग एक ही तरीके से काम करते हैं, हालांकि दोनों के INDEX VALUE में अंतर है, क्योंकि दोनों का INDEX अलग-अलग वर्ष से शुरू होता है, और उनकी INDEX में शामिल कंपनियों की संख्या में भी अंतर है, जहा BSE INDEX SIRF 30 कंपनी है, वही निफ्टी-50 में 50 कंपनी है।


निफ्टी क्या है:-

निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक है यह सूचीबद्ध 50 प्रमुख शेयरों का सूचकांक है। निफ्टी दो शब्दों को मिला कर बना है NATIONAL और फिफ्टी। निफ्टी की चाल से आपको बाजार की चाल का हाल मालूम हो जाता है. यदि निफ्टी में तेजी है तो आप मान सकते हैं कि बाजार में भी तेजी है. यदि निफ्टी में गिरावट है तो आप मान सकते हैं कि बाजार में भी गिरावट है। हालाँकि निफ्टी केवल पचास शेयरों की कीमत के आधार पर ही गिना जाता है फिर भी निफ्टी की दिशा बाजार की दिशा का भी संकेत देती है


म्यूच्यूअल फण्ड:-

निवेशकों की एक बड़ी संख्या के द्वारा जमा पैसा राशी को म्यूचुअल फंड कहते हैं जिसे एक फण्ड में डाल दिया जाता है। फण्ड मेनेजर इस पैसे को विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश करने के लिए अपने निवेश प्रबंधन कौशल का उपयोग करता है. म्यूचुअल फंड कई तरह से निवेश करता है जिससे उसका रिस्क और रिटर्न निर्धारित होता है। जब बहुत से निवेशक मिल कर एक फण्ड में निवेश करते हैं तो फण्ड को बराबर बराबर हिस्सों में बाँट दिया जाता है जिसे इकाई या यूनिट Unit कहते हैं। इसके अलावा Mutual Fund म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा यह है की एक निवेशक जिसे बाज़ार की अधिक जानकारी नहीं है वह अपना निवेश विशेषज्ञों के हाथ में छोड़ देता है. कहाँ, कैसे और कब निवेश करना है यह विशेषज्ञों निर्धारित करते हैं।



Contact Us

To get any information related to our services or our company please calls our 24/7 Customer Care Support us at +91-9826766552 !